Meri Punjabi Kavita

Meri Punjabi Kavita
Meri Punjabi Kavita

Jo Satya Ka Dharak | जो 'सत्य' का धारक


Jo Satya Ka Dharak 

जो 'सत्य' का धारक 

जो 'सत्य' का धारक | Jo Satya Ka Dharak

Jo Satya Ka Dharak | जो 'सत्य' का धारक





















जो 'सत्य' का धारक,

वो स्वच्छता  का भी धारक,

उच्च - स्वच्छ,

मिथ्यात्व से परे,

बनावट के बिना,

एक अनोखा जीव,

लगे न जैसे पृथ्वी का,

आसमान से ऊँचा ,

समुद्र से गहरा,

न किसी के तुल्य,

सभी में रहता है,

सभी के विपरीत,

अल्बेला - अजीब,

लेकिन 'सत्य' का धारक,

स्वच्छता  का धारक,


इसे भी पढें :  मिल जाते हैं अक्सर | Mil Jaate Hain Aksar





Post a Comment

0 Comments