जब भरेगा पाप का घड़ा

जब भरेगा पाप का घड़ा,
जब होगी धरम की हानि,
तेरा वादा है,
कि तूं आयेगा।

जब बनेगा मानव दानव,
जब पसरेगी अमानवीयता,
तूने कहा था,
कि अंतिम दिन नज़दीक होगा।   

जब होगा सत्य अलोप,
और झूठ का होगा तांडव,
तो तूने कहा था,
मरी पड़ेगी।

जब होंगे सब स्वार्थी,
और लालच के कुत्ते भौंकेंगे,
तो समझ लेना,
मेरे वचन सत्य होने वाले हैं। 

जो होगा तेरा सेवक,
ओर चलेगा तेरे वचन पे,
तेरा वचन है,
कि होगा उसका,
बाल भी बांका नहीं। 


जब होगा ये सब,
जब होंगे ऐसे हालात,
तो करना पशचाताप,
और आ जाना सच्चे मन से,
मेरी शरण में,
और करना अपने पापों से तौबा,
तेरा निर्देश है। 

मत भूल,
कि वो पिता है,
हैं सब उसके लिए एक जैसे,
जब उसने दिया है सब - कुछ,
तो उसे हक़ है,
लगाने का एक चपत,
कि आ जाएँ उसके बच्चे,
सही राह पर। 


Post a comment

0 Comments